रणजी ट्रॉफी कैसे खेलें | रणजी ट्रॉफी में सिलेक्शन कैसे होता है

ranji trophy selection process
Spread the love

इस ब्लॉग पोस्ट में आप जानेंगे रणजी ट्रॉफी कैसे खेलें, रणजी ट्रॉफी में सिलेक्शन कैसे होता है, रणजी ट्रॉफि ट्रायल कैसे दें व ट्रायल हेतु डाक्यूमेंट्स, भारत में कौन-कौन सी घरेलु क्रिकेट प्रतियोगिताएं होती हैं। उत्तराखंड क्रिकेट टीम में कैसे अप्लाई करे अंडर 14, 16, 19 ओपन ऐज कैटेगरी ।

क्रिकेट मार्गदर्शन के लिए हमारे टेलीग्राम ग्रुप से जुडें

Table of Contents

रणजी ट्रॉफी क्रिकेट टूर्नामेंट में सर्वाधिक रन किस खिलाडी ने बनाये हैं?

रणजी ट्रॉफी लगातार सबसे ज़्यादा बार किस टीम ने जीती है ?

मुंबई ने सबसे अधिक कुल 41 बार रणजी ट्रॉफी में जीत दर्ज की है और 1958-59 से 1972-73 तक लगातार 15 बार रणजी ट्रॉफी जीतने का रिकॉर्ड बनाया है।

दोस्तों मैं भी कभी इंडिया के लिए क्रिकेट खेलना चाहता था परन्तु जानकारी न होने की वजह से ऐसा हो नहीं पाया। मैं उत्तराखंड की टीम से खेलना चाहता था और 2019 में अप्लाई भी किया था परन्तु ट्रायल का मौका नहीं मिला इस पोस्ट में आपसे शेयर करूँगा की कौन से डाक्यूमेंट्स ज़रूरी होते हैं ट्रायल में हिस्सा लेने के लिए जरूरी होते हैं।

यदि आप भी 14-17 या 26-35 साल की ऐज क्रॉस कर चुके हैं और फिर भी पैशन है क्रिकेट खेलने का और जानकारी चाहते हैं की कैसे किसी डोमेस्टिक टीम का हिस्सा बने तो निश्चित रूप से ये पोस्ट आपके लिए है इसे पूरा पढ़ें।

क्रिकेट खेलने की निम्न आयु – अंडर 14 – अंडर 16 – अंडर 19 – ओपन ऐज – इसमें कोई ऐज लिमिट नहीं होती है 24 साल से शुरू होती है और 40 – 45 या उससे अधिक ऐज के हैं तो भी आप एलिजिबल हैं। वसीम जाफर का नाम आपने सुना होगा यदि नहीं तो गूगल सर्च करे वे 41 साल के हो चुके हैं और अभी भी मुंबई रणजी टीम में खेलते हैं उन्हें मुंबई क्रिकेट टीम का भीष्म पितामह कहते हैं।

दोस्तों आईपीएल में भी कई ऐसे खिलाडी है जो 40-45 साल के हैं पर टैलेंट के दम पर खेल रहे हैं तो निराश होने की बजाय खेलना शुरू करे कहाँ और कैसे अप्लाई करना है वो जानकारी आपको स्पोर्ट्सगो देगा और यदि आपका कोई सवाल है तो बिना किसी हिचकिचाहट के आप नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं। स्पोर्ट्स से जुडी अन्य जानकारियों के लिए सब्सक्राइब करना न भूलें।

यदि आप उत्तराखंड में रहते हैं तो एक अच्छी खबर ये है की सन 2018 से उत्तराखंड को रणजी ट्रॉफी खेलने की मान्यता मिल गयी है और अब आप भी घरेलू ट्रॉफी में भाग ले सकते हैं ।

उत्तराखंड क्रिकेट टीम के वर्तमान कप्तान कुनाल चंदेला हैं। राजीव गाँधी इंटरनेशनल क्रिकेट स्टेडियम उत्तराखंड का होम ग्राउंड है। उत्ताराखंड क्रिकेट टीम का संचालन क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ़ उत्तराखंड के द्वारा किया जाता है।

रणजी क्रिकेट खेलने की उम्र

रणजी ट्रॉफी के लिए कम से कम और अधिकतम कितनी ऐज होनी चाहिए – रणजी ट्रॉफी अंडर 14, अंडर 16, अंडर 19, अंडर 23 और ओपन ऐज केटेगरी में होता है। ओपन ऐज केटेगरी में 23 साल से ज़्यादा वाले खिलाडी भाग ले सकते हैं इस केटेगरी में कोई ऐज लिमिट नहीं होती 24 साल से लेकर 40, 45 या उससे भी अधिक साल के खिलाडी भाग ले सकते हैं। रणजी ट्रॉफी में भाग लेने के लिए किसी भी ऐज केटेगरी वाले खिलाडी का डिस्ट्रिक्ट या स्टेट लेवल में खेलना ज़रूरी है तभी ये खिलाडी रणजी में ट्रायल दे पाएंगे। आई पी एल 2022 शेड्यूल पी डि एफ

क्रिकेट ट्रायल रजिस्ट्रेशन स्कूल स्टूडेंट्स (12 से 19 वर्ष)

पीडीएफ फाइल सभी डाक्यूमेंट्स के लिए अनिवार्य है।
1.कंप्यूटराइज जन्मतिथि
2.3 साल का एजुकेशन और बोनाफाइड सर्टिफिकेट
3.आवेदक का आधार कार्ड (छात्र)
4.पेरेंट्स का आधार कार्ड
5पेरेंट्स शादी की डेट
6.स्टूडेंट का ब्लड ग्रुप
7.पासपोर्ट साइज फोटो, जेपीजी फॉर्मेट में

नोट – सभी डाक्यूमेंट्स पीडीऍफ़ फॉर्मेट में होने अनिवार्य हैं ।

ओपन ऐज कैटेगरी क्रिकेट ट्रायल कैसे दें दस्तावेज

ओपन ऐज कैटेगरी मैं उम्र की कोई सीमा नहीं होती है इसमें वे व्यक्ति आते हैं जो 23 वर्ष या उससे अधिक के होते हैं भले ही वे 40 साल के भी क्यों ना हो। बीसीसीआई की तरफ से अधिकतम उम्र की कोई सीमा नहीं रखी गई है।

पीडीएफ फाइल सभी डाक्यूमेंट्स के लिए अनिवार्य है।
1.कंप्यूटराइज जन्मतिथि
2.1 साल की जॉब का सैलरी स्लिप सबूत
3.आवेदक का आधार कार्ड
4.पेरेंट्स का आधार कार्ड
5.पेरेंट्स शादी की डेट
6.डोमिसाइल
7.आवेदक का ब्लड ग्रुप
8.पासपोर्ट साइज फोटो (जेपीजी)

ओपन ऐज केटेगरी बॉक्स में दूसरे पॉइंट का मतलब – आपके पास सैलरी स्लिप के रूप में एक साल से उस राज्य में जॉब करने का प्रूफ होना चाहिए जिस राज्य से आप ट्रायल के लिए अप्लाई करेंगे और साथ ही सारे डिटेल्स जो ऊपर बॉक्स में दिए गए हैं अनिवार्य हैं।

ध्यान रहे सैलरी प्रूफ के रूप में कैश सैलरी या लेटर हेड पर लिखवाया गया मान्य नहीं होगा भले ही आप स्कूल में जॉब करते हो कोच हो या अन्य आर्गेनाइजेशन में कार्यरत हो ।

यदि आप किसी राज्य में 15 साल से भी रह रहे हों और आपके पास अपना घर भी हो राशनकार्ड पर नाम भी हो आधार कार्ड भी हो परन्तु सैलरी स्लिप न हो तो भी आप ट्रायल नहीं दे सकते। इसलिए आपके पास सैलरी स्लिप कम से कम एक साल की होना अनिवार्य है ।

दोस्तों यह सब मैं अपने अनुभव के आधार पर कह रहा हूँ। B.C.C.I के इस बेतुके और बिन सर पैर के रूल की निंदा कई पूर्व खिलाडी भी कर चुके हैं।

क़ायदेसे होना तो यह चाहिए की आपके पास बस एक आधार कार्ड और पैन कार्ड होना चाहिए बाकी टैलेंट के दम पर ही सिलेक्शन होना चाहिए क्योंकि ज़रूरी नहीं की सभी लोग जॉब करते हो कुछ किसान तो कुछ छोटे व्यापारी भी होते है पर नियम वे लोग बनाते है जिन्होंने कभी खुद क्रिकेट नहीं खेला होता है।

यदि आप जॉब नहीं करते और आपका खुद का बिज़नेस है जैसे कोई शॉप या कुछ और तो उस शॉप के नाम पर बैंक अकाउंट होना अनिवार्य है वो भी 1 साल या उससे ज़्यादा समय से तभी आप ट्रायल के लिए एलिजेबल होंगे।

मेरे पिताजी आर्मी से है अतः हम हमेशा अलग अलग राज्यों में रहे हैं यदि आप भी आर्मी फॅमिली से है तो भी आपके पास सैलरी स्लिप होनी अनिवार्य है।

cover drive

उत्तराखंड रणजी ट्रॉफी में सिलेक्शन के लिए कैसे अप्लाई करें

यदि आप उत्तारखंड में रहते हैं तो आप स्टेट लेवल क्रिकेट ट्रायल के लिये भल्ला स्टेडियम हरिद्वार जो की बस अड्डे से करीब 3-5 km की दूरी पर है वहां डायरेक्ट जाकर अप्लाई कर सकते हैं ।

आपको श्रीमान बर्थवाल जो की B.C.C.I द्वारा उत्तराखंड क्रिकेट हेतु चुने गए हैं इनसे आप ट्रायल फॉर्म भी प्राप्त कर सकते हैं। आपको फॉर्म लेकर उसे भरने के पष्चात उन्हीं के पास जमा करना होगाइस फॉर्म का मूल्य 300 रूपए है इसके अतिरिक्त आपका और कोई शुल्क नहीं लगेगा।

यह ट्रायल हर साल होते हैं तथा हर साल नए खिलाडी चुने जाते हैं। अमूमन ट्रायल की डेट आपके लोकल अखबार में करीब 1-2 हफ्ते पूर्व आती है। ट्रॉयल की इन्फॉर्मेशन अमर उजाला, दैनिक जागरण जैसे अख़बारों में आती है। यह जानकारी आपको स्पोर्ट्सगो वेबसाइट पे भी मिल जाएगी।

रणजी ट्रॉफी में सिलेक्शन कैसे होता है

ranji trophy trayel के माध्यम से रणजी ट्रॉफी में सिलेक्शन होता है। रणजी ट्रॉफी का ट्रायल हर साल होता है । रणजी ट्रॉफी का यह ट्रायल राज्य स्तर पर होता है तथा इस ट्रायल में राज्य के क्रिकेट बोर्ड की तरफ से सेलेक्टर आते हैं। वे आपकी बेसिक स्किल देखते हैं। इस ट्रायल में बैट्समैन बैटिंग तथा बोलर्स बॉलिंग करते हैं । ट्रायल में हिस्सा लेने के लिए आपको सफ़ेद यूनिफार्म में जाना होता है। यदि आपके पास क्रिकेट किट नहीं है तो चिंता की बात नहीं है किट आपको ट्रायल में मिल जाती है सिर्फ एल गार्ड आप पर्सनल ही यूज़ करें तो बेहतर होगा। आप इस ट्रायल में सेलेक्ट होते हैं तो आपको आगे भेजा जाता है।

आपको आगे डिस्ट्रिक्ट की तरफ भेजा जाता है जहाँ आपको 3 मैच मिलते हैं और तीनों मैच में आपको अच्छा प्रदर्शन करना होता है। आपके प्रदर्शन के आधार पर आपको मंडल की टीम में भेजा जाएगा और मंडल की ओर से भी आपको तीन मैच खलेने का मौका मिलता है। मंडल में अच्छा प्रदर्शन करने के बाद भी आपको आगे भेजा जाता है।

मंडल में अच्छे प्रदर्शन के आधार पर आपको आपके राज्य के रणजी ट्रॉफी ट्रायल में भेजा जाता है। यहाँ आपकी जगह आखरी 60 लड़कों में होती है। इन सभी 60 युवकों की टीम बनती है तथा आपस में मैच होते हैं और प्रदर्शन के आधार पर आपकी जगह आखरी 30 में बनती है।

आखरी 30 युवकों के इस समूह को कैम्प भी कहा जाता है। सही मायने में ये सेलेक्शन का अंतिम चरण होता है। इस कैम्प में आपकी बेसिक स्किल देखि व परखी जाती है। यहाँ आपकी स्ट्रेंथ, फिटनेस व तकनीक देखि जाती है। यह कैम्प तक़रीबन 1 महीना चलता है। अंततः क्लब में अच्छे प्रदर्शन के बाद आपको रणजी ट्रॉफी में खेलने का मौका मिलता है।

रणजी ट्रॉफी में कितनी सैलरी मिलती है

पहले घरेलु क्रिकेट में 10 हज़ार रूपए एक दिन के दिए जाते थे बाद में इसे बढाकर 35 हज़ार कर दिया गया।

रणजी ट्रॉफी में संतोष जनक सैलरी मिलती है पर यह डिपेंड करता है की आपको कितने मैच खेलने का मौका मिलता है। यदि आप प्लेइंग एलेवेन में हो तो आपको पूरी सैलरी मिलती है किन्तु रिज़र्व में सैलरी हाफ हो जाती है।

रणजी ट्रॉफी प्लेयर्स की सैलरी बी0 सी0 सी0 आई के द्वारा पूर्व निर्धारित है और केवल बोर्ड ऑफ़ क्रिकेट कण्ट्रोल (BCCI) ही इसे बढ़ा या घटा सकता है। हाँ यह हमारी नेशनल टीम की तुलना में ज़रूर कम है पर यह वाजिव है क्योंकि नेशनल टीम अंतराष्ट्रीय स्तर पर खेलती है।

प्लेइंग इलेवन की सैलरीरिजर्व खिलाड़ियों की सैलरी
अंडर 23Rs 17,500 प्रति दिनRs 8,750 प्रति दिन
अंडर 19Rs 10,500 प्रति दिनRs 5,250 प्रति दिन
अंडर 16Rs 3,500 प्रति दिनRs 1,750 प्रति दिन
रणजी ट्रॉफीRs 35,000 प्रति दिनRs 17,500 प्रति दिन

क्या रणजी प्लेयर को पेंशन मिलती है

जी हाँ रणजी प्लेयर्स को भी पेंशन मिलती है पर इसके भी कुछ दायरे हैं। जी सी ए के अनुसार जिन खिलाडियों ने 8 रणजी मैच खेले हो उन्हे 3,500 रूपए मिलते और 16 मैच खेलने वाले रणजी खिलाडियों को 5,500 रूपए ।

भारत में होने वाली घरेलु क्रिकेट प्रतियोगिताएँ- बेसिक जानकारी

रणजी ट्रॉफी

रणजी ट्रॉफी की शुरुआत 1934 में हुई 4 नवम्बर 1934 को पहला मैच मद्रास और मैसूर की टीम के बीच चेन्नई के चेपॉक स्टेडियम में हुआ पहली गेंद मद्रास के एम0 जे0 गोपालन ने मैसूर के एन कर्टिस के विपरीत की थी। रणजी ट्रॉफी में रणजी नाम भारतीय क्रिकेट खिलाडी रणजीत सिंह से लिया गया। रणजीत सिंह को रणजी के नाम से जाना जाता था। इन्होने इंग्लैंड और ससेक्स काउंटी क्रिकेट कल्ब के लिए भी क्रिकेट खेला। रणजीत सिंह 1907 से 1933 तक नावानगर नामक रियासत के राजा थे तथा इन्होने इंग्लैंड के लिए भी टेस्ट क्रिकेट खेला। रणजीत सिंह ने कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय के लिए और सेंसेक्स के लिए प्रथम श्रेणी क्रिकेट भी खेला।

रणजी ट्रॉफी लीग कम नॉक-आउट के आधार पर खेली जाती है। राजा भूपेंद्र सिंह ने यह ट्रॉफी B.C.C.I को दान में दी थी। अब तक मुंबई ने सबसे ज़्यादा 41 बार रणजी ट्रॉफी का ख़िताब जीता है।

Padma Trophy महिला { राष्ट्रीय }- पदमा ट्रॉफी

सी.के नायडू ट्रॉफी

अंडर 19 (S.G.F.I) सी0 के0 नायडू ट्रॉफी – सी के नायडू भारतीय टेस्ट क्रिकेट टीम के पहले कप्तान थे । सी के नायडू का पूरा नाम कोटारी कानाकाया नायडू है। इन्हें 1923 में होल्कर के राजा ने इन्दौर आने का निमंत्रण दिया तथा इन्हें थल और वायु सेना का कप्तान बनाया और होल्कर के राजा ने सी के नायडू को होल्कर फ़ौज के कर्नल का सम्मान दिया।

कूच बेहर ट्रॉफी

Under 19 (open) कूच बेहार ट्रॉफी – कूच बेहार एक शहर का नाम है जो भारत के पश्चिम बंगाल के कूच बेहार जिले में स्थित है। यह ट्रॉफी 19 वर्ष के पुरुष खिलाडियों के लिए होती है।

वीनू मांकड़ ट्रॉफी

अंडर 16 {S.G.F.I} वीनू मांकड़ ट्रॉफी – 1956 में पंकज रॉय के साथ मिलकर ओपनिंग पार्टनरशिप में 413 बनाकर विश्व रिकॉर्ड बनाया था। यह रिकॉर्ड 52 वर्ष तक टिका रहा। यह रिकॉर्ड नई Zealand के खिलाफ चेन्नई में बनाया गया था जिसमे वीनू मांकड़ ने अकेले ही 231 रन बनाये थे ।

विजय मर्चेंट ट्रॉफी

Under 15 {open} विजय मर्चेंट ट्रॉफी – विजय मर्चेंट का पूरा नाम विजय सिंह माधव जी मर्चेंट है। यह मुंबई महाराष्ट्र के रहने वाले थे यह एक अच्छे क्रिकेट खिलाडी थे। इनका वास्तविक नाम विजय माधव जी ठाकरसी था। इन्होने प्रथम श्रेणी मुंबई क्रिकेट टीम के लिए खेला था । 1929 से 1951 तक भारत के लिए 10 टेस्ट मैच खेले।

रोहिंटन बेरिया ट्रॉफी

आल इंडिया यूनिवर्सिटी { सभी जोन की विजेता टीमों के मध्य एक दिवसीय मैचेस } – रोहिंटन बारिया ट्रॉफी 1935 से मुंबई के अर्देशिर दादा भाई बारिया द्वारा ट्रॉफी अपने बेटे रोहिंटन की याद में दान दी। यह ट्रॉफी भारतीय विश्वविद्यालय की सभी ज़ोन की विजेता टीमों के मध्य एकदिवसीय विजेता क्रिकेट टीम को दी जाती है। पहले यह तरोही B.C.C.I द्वारा आयोजित की जाती थी पर 1940-41 में भारतीय अन्तर यूनिवर्सिटी स्पोर्ट्स बोर्ड ने अपने हाथों में ले लिया।

विजि ट्रॉफी

आल इंडिया यूनिवर्सिटी { सभी जोन की विजेता टीमों के मध्य तीन दिवसीय मैचेस } – विज़्ज़ी ट्रॉफी – इस ट्रॉफी में रोहिंटन बारिया ट्रॉफी में प्रतिभाग की हुई टीमों के मध्य तीनदिवसीय क्रिकेट प्रतियोगिताएँ आयोजित की जाती हैं। यह ट्रॉफी विजय नगर के महाराज कुमार ले 0 कर्नल श्री विजय आनन्दा गणपति राजू के नाम से खेली जाती है। विज्जी भारतीय क्रिकेटर, क्रिकेट प्रशाशक और राजनीतिज्ञ थे।

विजय हजारे ट्रॉफी

विजय हज़ारे ट्रॉफी – यह ट्रॉफी महाराष्ट्र राज्य के भारतीय क्रिकेटर विजय सैम्यूल हज़ारे के नाम से खेली जाती है। विजय हज़ारे ने 1951 से 1953 तक भारत के लिए 14 मैच खेलते हुए कप्तान की भूमिका निभाई। विजय हज़ारे टॉफी को रणजी एकदिवसीय ट्रॉफी भी कहा जाता है। इसकी शुरुआत 2002-2003 से हुई। इस प्रतियोगिता में रणजी ट्रॉफी के माध्यम से राज्यों की टीम प्रतिभाग करने लगी।

क्या आप जानते हैंविजय हजारे ट्रॉफी में सिलेक्शन कैसे होता है

देवधर ट्रॉफी

यह ट्रॉफी भारतीय क्रिकेट टीम के पुराने खिलाडी प्रोफेसर डी0 बी0 देवधर के नाम से आयोजित होती है। यह प्रतियोगिता 1973-74 में शुरू की गई। इस ट्रॉफी में भारत के पांच जोन – उत्तर ज़ोन, दक्षिण ज़ोन, पूर्व ज़ोन, पष्चिम ज़ोन, तथा केंद्र ज़ोन से प्रत्येक की एक टीम प्रतिभाग करती है। इस प्रतियोगिता में शीश दो टीमों India A – India B का चयन B.C.C.I के द्वारा किया जाता है।

ईरानी ट्रॉफी

इस ट्रॉफी का नाम जेड आर ईरानी के नाम से पड़ा। ये 1928-1970 तक बी0 सी0 सी0 आई के सदस्य रहे।

दिलीप ट्रॉफी – यह ट्रॉफी गुजरात के नावानगर निवासी श्री दिलीप सिंह के नाम से आयोजित कराई जाती हैं। इसमें सभी जोनों से टीमें प्रतिभाग करती हैं ।

I.P.L में कैसे खेलेंआई 0 पी 0 एल में कैसे खेले से जुडी जानकारी

दुनिया के 3 सबसे अमीर क्रिकेट खिलाडी कौन हैं।

जी हाँ दुनिया के तीन सबसे अमीर क्रिकेट खिलाडी भारतीय ही हैं और चौथा नंबर ऑस्ट्रेलिया के रिकी पोंटिंग का आता है।

1.सचिन तेंदुलकर $170 मिलियन ( Rs 1090 करोड़)
2.एम एस धोनी $ 111 मिलियन ( Rs 767 करोड़)
3.विराट कोहली $ 92 मिलियन ( Rs 638 करोड़)

ये भी पढ़ें

क्रिकेट मार्गदर्शन के लिए हमारे टेलीग्राम ग्रुप से जुडें


Spread the love

28 thoughts on “रणजी ट्रॉफी कैसे खेलें | रणजी ट्रॉफी में सिलेक्शन कैसे होता है”

    1. यदि आपका खुद का बिज़नेस है जैसे कोई शॉप तो उस शॉप के नाम पर बैंक अकाउंट होना अनिवार्य है वो भी 1 साल या उससे ज़्यादा समय से तभी आप ट्रायल के लिए एलिजेबल होंगे।

      1. Dheeraj Kumar Verma

        Or अगर जॉब नहीं करते है स्टडी करते है तो किया होगा और पापा mammy ki शादी की तारीख नही है तो किया करेंगे सिर

        1. यदि आप स्टडी करते हो तो वहां का एजुकेशन सर्टिफिकेट, बोनाफाइड सर्टिफिकेट और पेरेंट्स का मैरेज सर्टिफिकेट बन जाता है।

    1. राहुल, क्रिकेटर बनने के लिए आपको निरंतर प्रैक्टिस करनी होगी और ट्रायल्स ना मिस करें। क्रिकेटर बनने का कोई शॉर्टकट नहीं है और ना ही हम आपको कोई मौका दे सकते हैं, हम सिर्फ आपको रास्ता दिखा सकते हैं पर चलना आपको खुद ही होगा। इसलिए अभी से प्लानिंग करें यदि आप स्टूडेंट हो तो पढाई भी करें ताकि आपकी फैमिली आपको सपोर्ट करें। क्रिकेट की जानकारी आपको स्पोर्ट्सगो पर मिलती रहेगी, क्रिकेट में करीयर कैसे बनाएं वाली पोस्ट पढ़ें।

  1. मेरा नाम है सायर खान ने छोटी सी जिला जालौर से खोखा गांव मैं क्रिकेटर बनने चाहता हूं

    1. सायर यदि आप क्रिकेटर बनना चाहते हैं तो ट्रायल ज़रूर दें। क्रिकेटर बनने के लिए सर्वप्रथम डिस्ट्रिक्ट क्रिकेट फिर स्टेट क्रिकेट खेलना होता है और इनके हर वर्ष ट्रायल होते हैं अतः डिस्ट्रिक्ट क्रिकेट ट्रायल्स 2022 मिस ना करें।

      1. Dheeraj Kumar Verma

        Sir दूसरे डिस्ट्रिक से ट्रायल से सकते है या नहीं अपने ही स्टेट के सिर बताना जरूरी🙏🙏😔😔

        1. धीरज, दूसरे डिस्ट्रिक्ट से ट्रायल नहीं दे सकते नियम के हिसाब से आपको अपने ही डिस्ट्रिक्ट से ट्रायल देना होता है।

        2. Bilkil de skate hai aap other states ka document ban bnaye aur khele bilkul khel sakte hai mere bhai usske liye aapko other sattes se documnet bnn ba ne hoge mera number hai
          9536137427
          9675186852 aap baat kar sakte hai mujh se mai aapko slaha de skata hu sir

          1. Name – Sanjeet Godhwal
            Date of birth_ 08/08/1990
            Distt-Saharanpur
            State- Uttar pradesh
            All raounder
            But Leg spiner main
            2016 tak stadium practice
            Iske baad gali cricket only
            क्या मै कोई trail दे सकता हुँ सर
            मैं cricket खेलना chahta hu
            Bsc. Physical education and
            B. P. ed , M. A. yoga student now in haridwar
            Reply jarur sar please

          2. संजीत, आप बिल्कुल ट्रायल दे सकते हो, इसके लिए आपको डिस्ट्रिक्ट लेवल ट्रायल्स देने चाहिए। जिला क्रिकेट हि क्रिकेटर बनने की पहली सीढ़ी है, उसके बाद स्टेट क्रिकेट आता है तथा उसके बाद डोमेस्टिक क्रिकेट में सिलेक्शन होता है। अपने जिले के डिस्ट्रिक्ट क्रिकेट एसोसिएशन से आप डिस्ट्रिक्ट क्रिकेट ट्रायल्स की डेट हासिल कर सकते हो, तथा दैनिक जागरण और अमर उजाला जैसे अखबारों पर भी ट्रायल्स की डेट आती है। हमारा यह पोस्ट पढ़े डिस्ट्रिक्ट क्रिकेट कैसे खेले।

  2. कैसे ट्रायल्स करें सर डिस्ट्रिक्ट से किकेट कैसे खेलें आपने डिस्ट्रिक्ट से

      1. Sir muje cricket khelna hai pr pata nahi hai ki kha se suru kare.. Tryal kha de or kaha jay sir ap pata de sakte hai hame..

        1. हितेश, हर राज्य मे एक स्टेट लेवल क्रिकेट एसोसिएशन तथा जिलों के हिसाब से अलग-अलग जिले के डिस्ट्रिक्ट लेवल क्रिकेट एसोसिएशन होते हैं। आप जिस भी जिले में रहते हैं उस जिले के डिस्ट्रिक्ट क्रिकेट एसोसिएशन से संपर्क करें तथा ट्रायल की जानकारी निकालने की कोशिश करें। डिस्ट्रिक्ट ट्रायल की खबर दैनिक जागरण और अमर उजाला जैसे अखबारों में भी आती है।

  3. Dheeraj Kumar Verma

    सर इतने मै हो जायेगा सिलेक्शन और जिले की टीम मै कैसे होगा सर और अगर हम दूसरे जिले से है तो होगा या नहीं (जैसे मैं सीहोर से हू और इंदौर के क्लब से खेलता हू यहीं स्टडी भी करता हु तो मेरा सिलेक्शन होगा या नहीं जरूर बताना सर

    1. राहुल, आप जहाँ भी रहते हैं वहां के लोकल अख़बार में 1 सप्ताह पूर्व ट्रायल्स की डेट आती है किन्तु ये ट्रायल्स जिलों के हिसाब से अलग अलग समय पर हो सकते हैं। ज़्यादातर ट्रायल्स फरवरी से शुरू हो जाते हैं, आपको खास तौर पर अमर उजाला, दैनिक जागरण पर नज़र रखनी होगी यदि यह पेपर आपके एरिया में नहीं आते तो अपने एरिया के लोकल अख़बार पर नज़र रखें। ट्रायल्स की अपडेट के लिए हमारे टेलग्राम ग्रुप से भी आप जुड़ सकते हैं जिसका लिंक पोस्ट के अंत में दिया है।

    1. Ranjeet Singh, सर्विसेज क्रिकेट टीम में गोवेर्मेंट एम्प्लोयी होते हैं। सर्विसेज में आर्मी, नेवी, एयरफोर्स के खिलाडी होते हैं। आप इंटर सर्विसेज कॉम्पिटिशन में भाग ले सकते हैं, इण्टर सर्विसेज़ कम्पटीशन के ज़रिये भी खिलाड़यों का चयन होता है। Read this post रेलवे से क्रिकेटर कैसे बनें and सर्विसेज क्रिकेट टीम में कैसे जाएं

  4. sir m ak farmer poor family se hu study is running lekin menu cricket ka bhut shounk h sir menu cricket cuib ko kese pahchanu ki this academy ddca se contect h agar menu yh jankari mil jaye to m aapka very very thanks sir

    manish kaswan

    1. स्वराज मोरे, हमारा यह पोस्ट पढ़े आईपीएल में सिलेक्शन कैसे होता है।

  5. Ser I’m all raunder bas thodi practice ki jarurat hai sab frends mujhe boll te hai ki tu acha batsman hai tujhe acedamy join karr leni chahiye lekin ser meri job bhi chalu hai koi jyada nollege bhi ni hai to me kese tryaal du ser.

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top
यॉर्कर बॉल कैसे खेला जाता है आई सी सी महिला वर्ल्ड कप 2022 शेडूल अंडर 19 क्रिकेट वर्ल्ड कप 2022 भारतीय दस्ता इरफ़ान पठान बने पिता दोबारा जो रुट ने सचिन का रिकॉर्ड तोडा