आईपीएल में कैसे खेलें | आईपीएल में सिलेक्शन कैसे होता है टी आर डि डब्ल्यू बीसीसीआई

cricket me six kaise mare
Spread the love

दोस्तों इस पोस्ट में आपको आईपीएल में कैसे खेलें और आईपीएल में सिलेक्शन होने के सही तरीकों और वजह से अवगत किया जाएगा। हम सब ने कभी न कभी क्रिकेट ज़रूर खेला है और जिस भी व्यक्ति का सपना क्रिकेट खेलना होता है वह कम से कम एक बार I P L ज़रूर खेलना चाहता है। जी हाँ आईपीएल की चकाचौंध ही ऐसी है की आज की तारिख में सब IPL खेलना चाहते हैं।

हालाँकि असली क्रिकेट IPL से कहीं आगे है पर शॉर्टकट की इस दुनिया के पास टाइम नहीं है और यही वजह है की T20 और IPL जैसे खेल असली क्रिकेट यानी TEST MATCH और ODI मैचेस से कहीं आगे निकल चुके हैं। आज सब यही पूछते हैं की IPL  कैसे खेले, how to play in IPL , आईपीएल में खेलने के लिए क्या करें, how to play ipl without ranji , how to play ipl in cricket 19 , आईपीएल रजिस्ट्रेशन आदि न जाने और कितने सवाल पर कभी कोई यह नई कहता की how to play test match , टेस्ट मैच कैसे खेलें । जबकि सच तो यह है की टेस्टमैच खेलना आईपीएल खेलने से कहीं ज़्यादा मुश्किल है और टेस्ट मैच में सिलेक्शन IPL में सेलेक्ट होने से कहीं ज़्यादा मुश्किल होता है।

बहरहाल, इस पोस्ट में हम जानेगे IPL में कैसे सेलेक्ट होते हैं।

आईपीएल में कैसे खेलें

हमारे टेलीग्राम ग्रुप से जुड़े

आईपीएल में सिलेक्शन कैसे होता है यह अपने आप में एक बड़ा सवाल है पर इसका जवाब उतना भी मुश्किल नहीं है। हालांकि आज कम्पटीशन ज़्यादा होने की वजह से थोड़ा मुश्किल ज़रूर हो गया है। यहाँ भी आपको सबसे पहले पहली सीढ़ी ही चढ़नी होगी अर्थात डोमेस्टिक क्रिकेट IPL खेलने का सबसे आसान और कारगर रास्ता है। या यूँ कह लीजिए बिना डोमेस्टिक क्रिकेट खेले IPL खेलना तकरीबन नामुमकिन ही है सिवाय TRDS क्वॉलिफॉय करने के।

ipl cricket

अब ध्यान दीजिये IPL खेलने के लिए आपको सिलसिलेवार तरीके से इन स्टैप्स को फॉलो करना होगा :

1.Participate in School Cricket
2.Join Cricket Club / Cricket Academy
3.Must participate district level, state level cricket match trials
4.Play Domestic Cricket – Ranji trophy, dilip, vijay hazare etc lots of domestic cricket
5.Participate in Railways trails – These are different from state level matches

स्कूल क्रिकेट

स्कूल क्रिकेट खिलाडी के क्रिकेट कॅरिअर की पहली सीढ़ी मानी जाती है। जी हां यदि आप क्रिकेट में अपना करियर बनाना चाहते हैं तो स्कूल क्रिकेट टीम का हिस्सा बनने की कोशिश ज़रूर करें यदि आप में टैलेंट और आपके स्पोर्ट्स टीचर जागरूक हुए तो वे आपको स्कूल लेवल पे ही अच्छे टूर्नामेंट्स खिला सकते हैं जैसे सचिन के गुरु रमाकांत आचरेकर सचिन को स्कूल लेवल से ही बड़े टूर्नामेंट्स जो की डिस्ट्रिक्ट लेवल के होते थे, खिलाते थे।

स्कूल क्रिकेट किसी भी खिलाडी का बेस होता है अतः अपने आपको परिपक़्व और ज़्यादा मज़बूत बनाने के लिए स्कूल टीम एक अच्छा प्लेटफॉर्म है। कोशिश करे की स्कूल टीम के आलावा ज़्यादा से ज़्यादा लोकल क्रिकेट मैचेस खेले ताकि आपकी मैच प्रैक्टिस और मैच स्टैमिना डेवलप हो सके।

प्रैक्टिस ट्रिक – कोशिश करे की ज़्यादातर प्रैक्टिस लैदर बॉल से करें और प्रैक्टिस करते वक्त हमेशा पूरा किट पहने (helmet-compulsory) छत पर भी प्रैक्टिस करे और प्लास्टिक बॉल से भी प्रैक्टिस करें। प्लास्टिक बौल से बाउंस और स्विंग की प्रैक्टिस होती है बल्लेबाज़ और गेंदबाज़ दोनों की।

क्रिकेट एकेडमी

यदि पॉसिबल हो तो अपने घर के पास ही कोई अच्छी क्रिकेट अकादमी ज्वाइन ज़रूर करें हालांकि यह ज़रूरी नहीं की अकादमी से खेलकर आपका सिलेक्शन हो ही जाएगा और अकादमी से नहीं खेलने पर नहीं होगा। यह आपके टैलेंट और मेहनत पर डिपेंड करता है किन्तु क्रिकेट अकादमी ज्वाइन करने के भी अपने फायदे हैं एक तो आपको अच्छी प्रैक्टिस मिलेगी जो की स्कूल में संभव नहीं और एक अच्छी अकादमी अक्सर अपने स्टूडेंट्स को अच्छे टूर्नामेंट में पार्टिसिपेट कराते हैं।

क्रिकेट क्लब से आप को डिस्ट्रिक्ट लेवल के ट्रायल की भी जानकारी मिलती रहेगी जिससे आप समय समय पर ट्रायल दे सकते हैं और डिस्ट्रिक्ट टीम में सेलेक्ट होने का मौका पा सकते हैं।
आई पी एल 2022 शेड्यूल पी डि एफ – free download

डोमेस्टिक क्रिकेट

दोस्तों आपको बता दूँ की IPL खेलने के लिए डोमेस्टिक क्रिकेट सबसे महत्वपूर्ण कड़ी है। डोमेस्टिक क्रिकेट खेलने के लिए आपको डिस्ट्रिक्ट लेवल क्रॉस करना होगा और एक बार डोमेस्टिक क्रिकेट में जगह बनने पर आईपीएल खेलने के सबसे ज़्यादा चांस बन जाते हैं। पर यह भी इतना आसान नहीं होता इसके लिए आपको लगातार पूरे साल डोमेस्टिक क्रिकेट में अच्छा परफॉरमेंस देना पड़ेगा ।

और यकीन मानिए आप को किसी से कुछ कहने और रिक्वेस्ट करने की ज़रुरत नहीं है सिर्फ अच्छा और लगातार अच्छा खेलने की ज़रुरत है महज़ अच्छा परफॉरमेंस ही आईपीएल या इंडियन क्रिकेट टीम की चाबी है।

यह मैदान ए जंग है जो हर किसी के लिए खुला है यहाँ अच्छे टैलेंट की कदर होती है यह कोई बॉलीवुड का ड्रामा नहीं है जहां स्टार किड आसानी से हीरो या हिरोइन बन जाते हैं। यहाँ तो सुनील गावस्कर का बेटा रोहन गावस्कर भी अपनी जगह नहीं बना सका और अब सचिन के बेटे अर्जुन तेंदुलकर को भी सिर्फ परफॉरमेंस के आधार पर ही जगह मिल पाएगी। सिर्फ सचिन का बेटा होने से वह अपनी जगह इंडियन क्रिकेट टीम में नहीं बना सकता है।

डोमेस्टिक क्रिकेट में सबसे महत्वपूर्ण रणजी ट्रॉफी है पर साथ ही हर एक ट्रॉफी की रणजी ट्रॉफी जितनी ही अहमियत है।

DOMESTIC CRICKET
1.Ranji trophy
2.C.K Naidu trophy
3.Dilip trophy
4.Cooch Behar trophy
5.Veenu Mankad trophy
6.Vijay Merchant trophy
7.Rohinton Baria trophy
8.Vizzy trophy
9.Vijay Hazare trophy
10.Deodhar trophy
11.Irani trophy

रणजी ट्रॉफी टाइल्स की पूरी जानकारी जानने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें रणजी ट्रॉफी में सिलेक्शन कैसे होता है

डिस्ट्रिक्ट लेवल क्रिकेटर

खिलाडियों को डिस्टिक्ट लेवल क्रिकेट की अहमियत समझनी होगी और उससे भी ज़्यादा ज़रूरी है organizations को अपनी ज़िम्मेदारी समझनी होगी कई बार ये बड़ी आर्गेनाइजेशन महज़ मैच जीतने के लिए दूसरे स्टेट से कुछ खिलाडी खिलाते हैं जो की ना इंसाफ़ी है और बिलकुल गलत है। BCCI को भी इस पहलु को सुधारने की ज़रुरत और डिस्ट्रिक्ट लेवल ट्रायल्स में भी और पारदर्शिता लाने की ज़रुरत है। हर साल डिस्ट्रिक्ट लेवल के ओपन ट्रायल्स भी होते हैं जिसमे आप प्रतिभाग कर सकते हैं।

Railways cricket – रेलवे के भी ओपन ट्रायल होते हैं हालांकि उसमे चयन काफी मुश्किल होता है क्योंकि उसमे ज़्यादातर खिलाड़ रेलवेज में जॉब करने वाले होते हैं पर फिर भी वे कुछ खिलाडियों का चयन करते हैं जो उन्हें extraordinary लगते हैं स्ट्रेट ड्राइव कैसे खेले

टी आर डि डब्ल्यू बीसीसीआई (TRDW-TRDS)

TRDW – Talent Resource Development Wing also called TRDS – Talent Resource Development Scheme

TRDW कह लीजिये या TRDS कह लीजिये दोनों एक ही हैं पर असल बात यह है की यह एक ज़बरदस्त मौका था जिसके द्वारा कुछ खिलाडी डायरेक्टली इंडिया अंडर 19 टीम का हिस्सा बने। TRDW की स्थापना 2002 में हुई थी उस समय BCCI प्रेसीडेन्ट जगमोहन डालमिया थे और पूर्व भारतीय कप्तान दिलीप वेंगसरकर TRDW के चेयरमैन थे ।

TRDW की उपलब्धियां

TRDW की स्थापना का उद्देश्य लोकल टैलेंट को ढूंढ़ना होता है और TRDW ने ऐसे कई टैलेंट भारत को दिए हैं। महेंद्र सिंह धोनी, सुरेश रैना, श्रीसंथ, आर पी सिंह, इरफ़ान पठान, पियूष चावला TRDW की खोज हैं।

टी आर डि डब्ल्यू कैसे काम करता है

TRDW Structure – इसके अंतर्गत 20 TRDO’s होते थे जो पूरे देश में लोकल जूनियर क्रिकेट मैच देखते थे और कुछ खिलाडियों की चयनित सूची के साथ डायरेक्ट NCA (National Cricket Academy) को रिपोर्ट करते थे इससे वे स्टेट क्रिकेट एसोसिएशन को बायपास कर देते थे। अफ़सोस TRDW अब अपने वास्तविक रूप में नहीं रह गया है 2006 में डालमिया के एग्जिट होते ही TRDW भी सिकुड़ गया और NCA ने भी केवल अंडर 19 पर ही ध्यान देने को सही समझा।

TRDW IPL – हालाँकि (KKR) कोलकाता नाईट राइडर्स ने 2009 (2nd IPL season) में TRDW सेटअप किया जो BCCI के ओरिजनल मॉडल पर निर्धारित था जिसके अनुसार पूरे देश से लोकल टैलेंट को ढूंढ़ना था। इसकी बागडोर Makarand Wainganker , को सौंपी गई मकरंद ने ही KSCA यानि कर्नाटक स्टेट क्रिकेट एसोसिएशन का कांसेप्ट दिया था। हालांकि मकरंद ने बाद में रिजाइन कर दिया था उनका विवाद कोच जॉन बुचानन से हो गया था जॉन की मल्टीप्ल कप्तान की बात मकरंद को पसंद नहीं आयी news nation latest news

हमारे टेलीग्राम ग्रुप से जुड़े

ये भी पढ़ें


Spread the love

15 thoughts on “आईपीएल में कैसे खेलें | आईपीएल में सिलेक्शन कैसे होता है टी आर डि डब्ल्यू बीसीसीआई”

    1. Debadatta kumura, यदि आप क्रिकेटर बनना चाहते हैं तो सबसे पहले अपने स्टेट के डिस्ट्रिक्ट लेवल ट्रायल्स में पार्टिसिपेट करें, ट्रायल हर साल होते हैं। ट्रायल की अधिक जानकारी के लिए आपको अपने जिले के डिस्ट्रिक्ट क्रिकेट एसोसिएशन से संपर्क कर जानकारी इकट्ठा करने की कोशिश करनी चाहिए। लगातार प्रैक्टिस करें नए तरीकों से प्रैक्टिस करें, बैटिंग प्रैक्टिस के नए तरीकों के लिए हमारी इस पोस्ट को पढ़ें बैटिंग प्रैक्टिस टिप्स 5

  1. संतोष कुमार

    sir मुझे क्रिकेट खेलना है बिहार टीम से क्या करना होगा हम sir ऑल अन्दर हु sir

    1. संतोष, सबसे पहले आपको डिस्टिक क्रिकेट ट्रायल्स देने होंगे, ट्रायल्स फरवरी-मार्च में हो सकते हैं। अपने जिले के लोकल अखबार (दैनिक जागरण,अमर उजाला) पर नजर रखें ट्रायल्स की डेट 1 हफ्ते पहले ही आती है। हो सके तो अपने जिले के डिस्ट्रिक्ट क्रिकेट एसोसिएशन जा कर संपर्क करें और ट्रायल्स की डेट पता करने की कोशिश करें।

      1. Sar main kabhi domestic cricket nahin khela hun lekin main bahut achcha khelta hun isliye aapse hath jodkar nivedan hai ki aap meri madad Karen aapki mahan kripa hogi
        Sar mera mobile number hai
        9453 75 8041

        1. रोहित यदि क्रिकेट में अपना करियर बनाना है तो अकेले मैदान में उतरना होगा और अपनी मदद खुद करनी होगी। हमारे द्वारा आप क्रिकेट संबंधित जानकारी और क्रिकेट स्किल सुधारने हेतु इंफॉर्मेशन पा सकते हैं। यह पोस्ट पढ़ें बेस्ट बैटिंग टिप्स, बॉलिंग स्पीड कैसे बढ़ाएं।
          ध्यान रहे सिर्फ अच्छा खेलने से कुछ नहीं होता यदि क्रिकेटर बनना है तो क्रिकेट की पहली सीढ़ी “डिस्ट्रिक्ट क्रिकेट ट्रायल” जरूर दें।

      2. सर मुझे जयपुर की टीम से खेलने के लिए क्या करना होगा

  2. CHHOTE LAL MEENA

    Sir IPL match। खेलना है इसके लिए क्या करना होगा मुझे

    1. रविंद्र कुमार मौर्या, क्रिकेट को तुम ने चुना है किसी और ने नहीं इसलिए कोई तुम्हारा साथ क्यों देगा, तुम्हें अपना साथ खुद देना होगा और सबसे अहम बात क्रिकेट अमीर या गरीब नहीं देखता वह सिर्फ टैलेंट देखता है। उदाहरण के लिए ट्रक ड्राइवर के बेटे वसीम जाफर 44 साल की उम्र में भी अपने टैलेंट के दम पर मुंबई के लिए रणजी ट्रॉफी खेल रहे हैं किंतु सुनील गावस्कर और सचिन तेंदुलकर जैसे दिग्गजों के बेटे किसी बड़ी प्रतियोगिता में हिस्सेदार नहीं है।

      बहराल, यदि क्रिकेटर बनना चाहते हो तो डिस्ट्रिक्ट लेवल क्रिकेट ट्रायल्स मे भाग ले। यह ट्रायल्स हर साल होते हैं अमूमन फरवरी से मार्च एंड तक ट्रायल हो जाते हैं किंतु कुछ राज्यों में अलग समय पर भी होते हैं। इन ट्रायल्स की डेट दैनिक जागरण और अमर उजाला जैसे विश्वसनीय अखबारों में आती है, आप अपने शहर के किसी अच्छे क्रिकेट एकेडमी से संपर्क कर ट्रायल की लम सम डेट की जानकारी प्राप्त कर सकते हो या फिर सीधे डिस्ट्रिक्ट क्रिकेट एसोसिएशन से भी संपर्क कर सकते हो।

      चिंता ना करें यह ट्रायल हर साल होते हैं अपनी प्रैक्टिस पर ध्यान दें और दूसरों से उम्मीद लगाना और अपनी गरीबी को कोसना छोड़े तथा ट्रायल्स की तैयारी आज से ही शुरु कर दें।

  3. Sir,
    Me all rounder player hoo me jab bhi trial Dene jaata hoo mujhe lete nahi hai kehte hai jagah nahi hai me kya karu
    Me 4 time ja chuka hoo
    Lekin me Ameer nahi hoo
    Kya talent ki kadar nahi hai kya

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top
यॉर्कर बॉल कैसे खेला जाता है आई सी सी महिला वर्ल्ड कप 2022 शेडूल अंडर 19 क्रिकेट वर्ल्ड कप 2022 भारतीय दस्ता इरफ़ान पठान बने पिता दोबारा जो रुट ने सचिन का रिकॉर्ड तोडा