गर्ल क्रिकेटर कैसे बनें | female cricketer

girl cricketer
Spread the love

  • भारत में क्रिकेट एक धर्म की तरह है जैसे यूरोप में फुटबॉल को धर्म माना जाता है और वह दुनिया का सबसे अमीर और लोक प्रिय खेल है। क्रिकेट भारत का सबसे लोकप्रिय और सबसे ज़्यादा खेला जाने वाला खेल है इस बात का अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है की अब भारत में लड़कियां भी क्रिकेट खेलते हुए नज़र आ जाती हैं और अपने देश के लिए क्रिकेट खेलना चाहती हैं। यदि आप भी क्रिकेट खेलना चाहती हैं तो आपके लिए कोई अलग रूल नहीं है गर्ल क्रिकेटर कैसे बनें यह अधिकतर लड़कियां जानना चाहती हैं।

Join cricket club male or female

सबसे पहले तो आपको एक क्रिकेट क्लब ज्वाइन करना चाहिए क्रिकेट अकादमी ज्वाइन करते वक्त ये न ध्यान दें की वह लड़कों की है या लड़कियों की अकादमी है बस इतना ज़रूर चैक करें की वहां आपको प्रैक्टिस का सही मौका मिल भी रहा है या नहीं। यदि आप अपनी सहूलियत के हिसाब से सिर्फ लड़कियों का क्लब ढूंढ़ती रहेंगी तो आपका टाइम वेस्ट होगा क्योंकि गर्ल क्रिकेट अकादमी फ़िलहाल बॉयज क्रिकेट अकादमी से कही ज़्यादा कम है।

यदि आपके शहर में कोई अकादमी ही नहीं है तो कोई बात नहीं क्योंकि यह ज़रूरी नहीं की क्लब खेल कर ही आप आगे क्रिकेट में जा सकेंगी यदि आप में टैलेंट है और घर पर ही प्रैक्टिस कर लेती हैं तो आप बिना कोई क्लब खेले भी इंडियन वूमेन क्रिकेट टीम का हिस्सा बन सकती हैं बस आपको समय समय पर क्रिकेट ट्रायल देते रहना होगा यह ट्रायल डिस्ट्रिक्ट लेवल से शुरू होते हैं। आप जिस भी शहर में रहते हैं उस शहर के डिस्टिक्ट में यह ट्रायल्स होते हैं।

boys cricket academy– ज्वाइन करने का ये फायदा है की वहां आपको लड़को के साथ कम्पटीशन करना होगा जिससे आपकी प्रैक्टिस अच्छी होगी यदि आप एक बार लड़कों का स्टैमिना बीट कर गए तो कॉन्फिडेंस बढ़ जाएगा और यह मुमकिन भी है फॉर एक्साम्पल गीता फोगाट या बबीता फोगाट के सामने कोई अच्छा ख़ासा लड़का टिक नहीं पाएगा क्योंकि उन्होंने अपनी स्किल्स पे काम किया है और आपको तो किसी को उठाके पटकना भी नहीं है बस अपनी स्किल मज़बूत करनी है ताकि वक्त आने पे आप फ़ास्ट बॉलिंग से उनकी गिल्लियां बिखेर सको या अपनी कलात्मक बल्लेबाज़ी से उनकी गेंदबाज़ी को धराशाई कर सको।

फीमेल क्रिकेटर कैसे बने

डिस्ट्रिक्ट लेवल क्रिकेट ट्रायल्स हर साल होते हैं यह लड़को के अलग और लड़कियों के अलग ट्रायल होते हैं। इन ट्रायल्स की डेट अमर उजाला, दैनिक जागरण जैसे अख़बारों में ट्रायल्स से कुछ दिन पहले आती है। क्लब ज्वाइन करने का एक यह फायदा मिलता है की आपको ट्रायल्स का पता सही समय पर चल जाता है और ट्रायल मिस होने के चांस कम होते हैं।

यह ट्रायल्स हर राज्य में अलग समय पर हो सकते हैं। स्पोर्ट्सगो आपको ट्रायल्स की सही जानकारी देने में सक्षम है यदि आप भी (male-female both) कोई ट्रायल मिस नहीं करना चाहते तो स्पोर्ट्सगो को फ्री में सब्सक्राइब कर सकते हैं उसके लिए आपको अपनी ईमेल आई डी सब्सक्राइब फॉर्म में भरना होगा और फिर एक ईमेल आपके इनबॉक्स में स्पोर्ट्सगो की तरफ से आएगा उसे कन्फर्म करने पर ही सब्सक्राइब पूरा होगा।

गर्ल क्रिकेटर बनने के लिए क्या करें

गर्ल या महिला क्रिकेटर बनने के लिए अपनी तैयारी पूरी रखें मौका मिलने पर कोई चूक ना हो इसलिए सारे बेसिक स्किल्स पर निरंतर काम करें। अपने आप को लड़कों से कम न समझें बस अपनी स्किल डेवलोपमेन्ट पर ध्यान दें यानि की यदि आप बल्लेबाज़ हैं तो बल्लेबाज़ी की विशेष ढंग से लगातार प्रैक्टिस करें और आपकी मुख्य स्किल स्पिन बोलिंग है तो अपनी स्पिन बोलिंग में विविधता लाएं और अगर आप फ़ास्ट बॉलर हैं तो पहले तो अपनी बॉलिंग स्पीड कैसे बढ़ाएं पर भी ध्यान दें और साथ ही लाइन लेंथ और नो बॉल का विशेष ध्यान दें।

यह सब आपको निरंतर अभ्यास से ही आएगा और इन सभी स्किल्स को अलग ढंग से प्रैक्टिस करने की कोशिश करें ये सारी स्किल्स आपको स्पोर्ट्सगो पर मिल जाएंगी जिसमे मैंने काफी डीटेल में सभी स्किल को निखारने के नए और पुराने तरीके बताए हैं और कुछ तरीके तो बिलकुल ही अनोखे और कारगर हैं जैसे बैस्ट बैटिंग टिप्स

girl cricket future

  • महिला क्रिकेट का फ्यूचर बेहद सुहाना होने वाला है पर बाद में उसमे बहुत ज़्यादा कम्पटीशन बढ़ जाएगा जैसे बॉयज क्रिकेट में बढ़ चुका है। यदि आपमें या आपके किसी खास में कुछ अच्छा टैलंट है तो उसे ज़ाया ना करें क्योंकि आने वाले समय में लड़कियों का IPL भी हो सकता है और इस बात से भी इंकार नहीं किया जा सकता की आईपीएल से भी कोई और बेहतर विकल्प अचानक से सामने आ जाए। पर सबकी सीढ़ी बेसिक क्रिकेट से ही गुज़रती है इसलिए आपका डिस्ट्रिक्ट और स्टेट लेवल खेलना ज़रूरी है तभी आप क्रिकेट की बाकि सीढियाँ चढ़ पाओगे।

girl cricket kit

  • यू तो आप किसी भी लकड़ी के बल्ले और किसी भी गेंद से प्रैक्टिस कर सकते हैं पर एक समय के बाद जब आपको लगे की अब आप भी प्रोफेशनल लेवल पर प्रैक्टिस के लिए तैयार हैं तो असली बल्ले और क्रिकेट सामान का इस्तेमाल करें ताकि ट्रायल देते वक्त आप सहज महसूस कर सकें।

ये भी पढ़ें


Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top
How to play yorker ball in cricket ICC Women’s World Cup 2022 Schedule Under 19 Cricket World Cup 2022 India Squad Irfan Pathan becomes father again Joe Root breaks Sachins Record